करुणानिधि परिवार में सत्ता संघर्ष (फाइल)

मुथुवेल करुणानिधि, तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके पार्टी प्रमुख का 94 साल की उम्र में एक लंबी बिमारी के बाद चेन्नई में निधन हो गया.

तमिलनाडु की राजनीति में करुणानिधि का पांच दशक लंबा सफर रहा. इन पांच दशकों के दौरान करुणानिधि ने डीएमके को न सिर्फ राज्य की सत्ता पर कई बार काबिज किया बल्कि केन्द्र की राजनीति में भी बड़ी भूमिका अदा की. 3 जून, 1924 को नागापट्टिनम जिले के थिरूकुवलई में जन्म हुआ था.

डीएमके में बतौर कार्यकर्ता अपनी स्पीच और स्क्रिप्ट लिखने की क्षमता के चलते करुणानिधी लगातार आगे बढ़ते रहे. लेकिन उनके राजनीतिक सफर का टर्निंग प्वाइंट तब आया जब डीएमके ने कालाकुडी रेलवे स्टेशन का नाम एक कारोबारी के नाम पर डिलमियापुरम करने का विरोध किया. इस प्रदर्शन के दौरान उनपर 35 रुपये का जुर्माना लगाया गया और 5 महीने की जेल की सजा का आदेश हुआ. करुणानिधि ने जुर्माना अदा करने से मना कर दिया और एक साल तक जेल में सजा काटी. इस एक प्रदर्शन ने करुणानिधी को पार्टी के शीर्ष नेताओं में लाकर खड़ा कर दिया.

बताया जाता है कि करुणानिधि ने ‘द्रविण’ राजनीतिक विचारों को अपनी फिल्म ‘पराशक्त‍ि‘ के जरिये आम तमिल जनता तक पहुंचाया. ये फिल्म तमिलनाडु के सिनेमा के लिए टर्निंग पॉइंट साबित हुई. इसने राजनीति पर तो असर डाला ही.

bestnewsreaderPolitical News
मुथुवेल करुणानिधि, तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके पार्टी प्रमुख का 94 साल की उम्र में एक लंबी बिमारी के बाद चेन्नई में निधन हो गया. तमिलनाडु की राजनीति में करुणानिधि का पांच दशक लंबा सफर रहा. इन पांच दशकों के दौरान करुणानिधि ने डीएमके को न सिर्फ राज्य की...