Representational Image (Reuters)

ये तो हम जानते है कि भारतीय बाजार में चीनी स्मार्टफोन कंपनियां तेजी से अपना बिजनेस बढ़ा रही हैं. लेकिन सीएमआर इंडिया के ताजा आंकड़ों के मुताबिक चीनी स्मार्टफोन कंपनियों के रेवेन्यू में बहुत चेजी से बढ़ोतरी हुई है. पिछले साल की पहली तिमाही के मुकाबले 2017 की पहली तिमाही में इन कंपनियों के रेवेन्यू में 180 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है.

हाल ही में IDC की रिपोर्ट आई थी जिसमें कहा गया है कि चीनी स्मार्टफोन ब्रांड शाओमी, वीवो, ओपो और लेनोवो लगातार भारतीय बाजार में बढ़त बनाए हुए हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक इस साल की पहली तिमाह में चीनी कंपनियों का 49 फीसदी भारतीय हैंडसेट बाजार पर कब्जा है. 49 फीसदी कब्जा और 180 फीसदी की बढ़ोतरी से ऐसा लग रहा है जैसे ये कंपनियां स्वदेशी कंपनियों का कुल हैंडसेट मार्केट शेयर पूरी तरह साफ हो सकता है.

CMR के टेलीकॉम ऐनालिस्ट कृष्णा मुखर्जी ने कहा है, ‘स्मार्टफोन के इस दौर में चीनी कंपनियों ने पहले से ही टॉप-5 की लिस्ट से भारतीय कंपनियों को बाहर कर दिया है. आने वाले समय में चीनी कंपनियां भारतीय कंपनियों को ऑवरऑल मोबाइल हैंडसेट मार्केट से बाहर कर देंगे’

साउथ कोरियन कंपनी सैमसंग और चीनी कंपनी शाओमी और आईटेल विस्तार के मामले में क्रमशः 27 फीसदी, 9 फीसदी और छह फीसदी मार्केट शेयर के साथ टॉप पर थे.

प्रॉफिट लिस्ट
रेवेन्यू के हिसाब से देखा जाए तो रिपोर्ट के मुताबिक 2017 की पहली तिमाही में टॉप-5 कंपनियों में नंबर-1 पर साउथ कोरियन कंपनी सैमसंग रही जबकि दूसरे नंबर पर चीनी कंपनी शाओमी है. तीसरे और चौथे नंबर पर भी चीनी कंपनी वीवो है. पांचवे पायदान पर 8.8 फीसदी मार्केट शेयर के साथ ऐपल है.

bestnewsreaderGadgetsMobile News
  ये तो हम जानते है कि भारतीय बाजार में चीनी स्मार्टफोन कंपनियां तेजी से अपना बिजनेस बढ़ा रही हैं. लेकिन सीएमआर इंडिया के ताजा आंकड़ों के मुताबिक चीनी स्मार्टफोन कंपनियों के रेवेन्यू में बहुत चेजी से बढ़ोतरी हुई है. पिछले साल की पहली तिमाही के मुकाबले 2017 की पहली...